रहिए अब ऐसी जगह - Rahiye Ab Aisi Jagah (Suraiya, Mirza Ghalib)

Encrypting your link and protect the link from viruses, malware, thief, etc! Made your link safe to visit. Just Wait...

Movie/Album: मिर्ज़ा ग़ालिब (1954)
Music By: ग़ुलाम मोहम्मद
Lyrics By: मिर्ज़ा ग़ालिब
Performed By: सुरैया

रहिए अब ऐसी जगह
चल कर, जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो
और हम-ज़बाँ कोई न हो
रहिए अब ऐसी जगह

बे-दर-ओ-दीवार का इक
घर बनाना चाहिये
कोई हम-साया न हो
और पासबाँ कोई न हो
रहिए अब ऐसी जगह

पड़िए ग़र बीमार तो
कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाइए तो
नौहा-ख़्वाँ कोई न हो
रहिए अब ऐसी जगह...

0 Response to "रहिए अब ऐसी जगह - Rahiye Ab Aisi Jagah (Suraiya, Mirza Ghalib)"

Post a Comment