ज़ुल्मत कदे में मेरे - Zulmat Kade Mein Mere (Jagjit Singh, Mirza Ghalib)

Encrypting your link and protect the link from viruses, malware, thief, etc! Made your link safe to visit. Just Wait...

Movie/Album: मिर्ज़ा ग़ालिब (टी वी सीरियल) (1988)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: मिर्ज़ा ग़ालिब
Performed By: जगजीत सिंह

ज़ुल्मत-कदे में मेरे, शब-ए-ग़म का जोश है
इक शम'आ है दलील-ए-सहर, सो ख़मोश है

ने मुज़्दा-ए-विसाल ना नज़्ज़ारा-ए-जमाल
मुद्दत हुई कि आश्ती-ए-चश्म-ओ-गोश है

दाग़-ए-फ़िराक़-ए-सोहबत-ए-शब की जली हुई
इक शम'आ रह गई है, सो वो भी खामोश है
ज़ुल्मत-कदे में मेरे...

आते हैं ग़ैब से, ये मज़ामीं ख़याल में
ग़ालिब, सरीर-ए-ख़ामा नवा-ए-सरोश है
ज़ुल्मत-कदे में मेरे...

0 Response to "ज़ुल्मत कदे में मेरे - Zulmat Kade Mein Mere (Jagjit Singh, Mirza Ghalib)"

Post a Comment