झूठी सच्ची आस पे - Jhoothi Sachchi Aas Pe (Chitra Singh, Jagjit Singh, Beyond Time)

Encrypting your link and protect the link from viruses, malware, thief, etc! Made your link safe to visit. Just Wait...

Movie/Album: बियॉन्ड टाइम (1987)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: काशिफ़ इन्दोरी
Performed By: चित्रा सिंह, जगजीत सिंह

झूठी-सच्ची आस पे जीना
कब तक आख़िर, आख़िर कब तक
मय की जगह ख़ून-ए-दिल पीना
कब तक आख़िर, आख़िर कब तक
झूठी-सच्ची आस पे जीना...

सोचा है, अब पार उतरेंगे
या टकरा कर डूब मरेंगे
तूफ़ानों की ज़द पे सफ़ीना
कब तक आख़िर, आख़िर कब तक
झूठी-सच्ची आस पे जीना...

एक महीने के वादे पर
साल गुज़ारा, फिर भी ना आए
वादे का ये एक महीना
कब तक आख़िर, आख़िर कब तक
झूठी-सच्ची आस पे जीना...

सामने दुनिया भर के ग़म हैं
और इधर इक तन्हा हम हैं
सैकड़ों पत्थर, इक आईना
कब तक आख़िर, आख़िर कब तक
झूठी-सच्ची आस पे जीना...

0 Response to "झूठी सच्ची आस पे - Jhoothi Sachchi Aas Pe (Chitra Singh, Jagjit Singh, Beyond Time)"

Post a Comment