वो फ़िराक़ और वो विसाल - Wo Firaaq Aur Wo Visaal (Jagjit Singh, Mirza Ghalib)

Encrypting your link and protect the link from viruses, malware, thief, etc! Made your link safe to visit. Just Wait...

Movie/Album: मिर्ज़ा ग़ालिब (टी वी सीरियल) (1988)
Music By: जगजीत सिंह
Lyrics By: मिर्ज़ा ग़ालिब
Performed By: जगजीत सिंह

वो फ़िराक़ और वो विसाल कहाँ
वो शब-ओ-रोज़-ओ-माह-ओ-साल कहाँ

थी वो इक शख़्स के तसव्वुर से
अब वो रानाई-ए-ख़याल कहाँ
वो शब-ओ-रोज़...

ऐसा आसाँ नहीं लहू रोना
दिल में ताक़त, जिगर में हाल कहाँ
वो शब-ओ-रोज़...

फ़िक़्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूँ
मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ
वो शब-ओ-रोज़...
वो फ़िराक़ और वो विसाल...

0 Response to "वो फ़िराक़ और वो विसाल - Wo Firaaq Aur Wo Visaal (Jagjit Singh, Mirza Ghalib)"

Post a Comment